Connect with us

India

अब नहीं दिखते कश्मीर में पत्थरबाज, कश्मीर में देश-विरोधियों के दिन गए

Published

on

जम्मू कश्मीर में जाग रही उमीद :- अब हो रही अमन शांति की बाते, हो रही तरकी

जम्मू-कश्मीर, 2 अगस्त (अमित शर्मा) : जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए को निरस्त किए जाने की दूसरी वर्षगांठ मनाई जा रही है क्या आब जनता हे की inदो वर्षो में क्या क्या हुआ जम्मू कश्मीर में अगर नहीं तो पड़े यह पूरी रिपोट जम्मू कश्मीर की आबोहवा बदल अब बदल चुकी है पुरे जम्मू कश्मीर में आतंक के गढ़ रहे इलाकों से सरहद तक अमन की बयार बह रही है हर और तरकी की बाते हो रही है कश्मीर में अब सड़कों पर न पत्थरबाज दिखते हैं और न ही राष्ट्र विरोधी प्रदर्शन करने वाले, गांवों-शहरों में सरकारी इमारतों से लेकर सरहद तक हर और तिरंगा फहर रहा है, यहाँ तक लाल चोक में भी तिरंगा देखने को मिलता है , आतंकवाद को दरकिनार कर युवा पीढ़ी काम धंधे में जुटने लगी है जादा तर युवा देश सेवा के लिए भारतीय सेना का रुख कर रहे है पिछले दिनों सेना में भर्ती होने के लिए कश्मीर घाटी और जम्मू में बड़ी बड़ी कतारों में देखे गए युवा का देश पप्रेम देखने को मिलता है कश्मीर में बच्चे सडको में खेलते हुए नज़र आ रहे है कश्मीर में अब फ़िल्मी सितारे भी दुबारा से रुख कर रहे है और यहाँ पर फिर से फिल्मे बनाई जा रहे है कश्मीर की खूब सुरती को देखने के लिए हर और बेचने रहता है

हालांकि, कुछ इलाकों में आतंकी घटनाएं हो रही हैं, लेकिन सुरक्षा बलों के सख्त रुख के चलते ज्यादातर आतंकी व उनके मददगार गायब होने लगे हैं। बदले हालात में अब नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर भी शांति है पाकिस्तान से समझौते के बाद दोनों ओर बंदूकें खामोश हैं इसी बीच, सेना ने उड़ी की आखिरी कमान पोस्ट अवाम के लिए खोल दी है तीनों ओर से पाकिस्तान से घिरी इस चौकी पर लहराते 60 फीट ऊंचे तिरंगे के साथ आम लोगों के लिए दो हफ्ते पहले खुला कैफे एलओसी पर स्थिति को बयां कर रहा है। अब यहां नागरिकों के आने पर सफेद झंडा नहीं लगाना पड़ता श्रीनगर से उत्तरी कश्मीर के बारामुला और उड़ी की ओर जाते पट्टन वैली में हाईवे किनारे सेब के खूबसूरत बागों में लोग काम में मशगूल हैं। कभी आतंक के गढ़ रहे बारामुला में भी माहौल बदला है।

पत्थरबाजी के लिए बदनाम यहां के ओल्ड टाउन में अब हुड़दंगी नहीं दिखते हैं। बारामुला के मुज्जफर बताते हैं कि झेलम में बहुत पानी बह चुका है। आतंकवाद से लोगों को कुछ मिला नहीं, सिर्फ तबाही हुई है। एक साल से यहां अमन है। यहीं दुकान पर बैठे सफेद दाढ़ी वाले व्यक्ति से जब माहौल पर बात की तो उन्होंने सड़क के निचली ओर दफनाए आतंकियों की ओर इशारा कर कहा, हुकूमत का संदेश सबकी समझ में आ रहा है। अब कोई बचाने नहीं आएगा। काम के सिलसिले में उड़ी आए एलओसी से सटे क्षेत्र के ग्रामीण ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि कोरोना संकट में सेना उनकी बहुत मदद कर रही है।

उधर, दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग और पुलवामा में भी हालात काफी बदल रहे हैं। अनंतनाग के अनीश अहमद का कहना है कि आतंकवाद का यहां भारी नुकसान हुआ है। युवा अब इस रास्ते पर नहीं जाना चाहते। कश्मीर के लोग खुद को संभालने की कोशिश कर रहे हैं। अनुच्छेद 370 का चंद लोगों ने फायदा उठाया। बदले माहौल में अब सड़कें बनने लगी हैं। विकास के और भी काम शुरू हुए हैं। अनंतनाग के ही तारिक अहमद ने कहा कि हालात सामान्य हो रहे हैं। कुदरत ने हमें जन्नत बख्शी है, लेकिन दहशतगर्दी से घाटी बदनाम हो गई। अब लोगों को सब समझ में आ रहा है। उम्मीद है जल्द ही कश्मीर पर्यटकों से फिर गुलजार होगा ।

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में काफी कमी आई है। घाटी में साल 2019 में पथराव की 1999 घटनाएं सामने आईं, जबकि 2020 में 255 बार ही पत्थरबाजी हुई। इस साल 2 मई को पुलवामा के डागरपोरा में मुठभेड़ के दौरान आतंकियों को बचाने के लिए लोगों ने पथराव किया। इसके बाद बारपोरा में 12 मई को भी नकाबपोशों ने पथराव किया था। इसके अलावा साल 2021 में पत्थरबाजी की कोई बड़ी घटना सामने नहीं आई है। इससे पूर्व 2018 और 2017 में पत्थरबाजी की , 1458 और 1412 घटनाएं दर्ज हुईं थीं।

बदली आबोहवा में अब कश्मीरी पंडित भी लौटने लगे हैं। धार्मिक महत्त्व के मट्टन में कभी कश्मीरी पंडितों के 500 से ज्यादा परिवार रहते थे, लेकिन 1990 में बदली परिस्थितियों ने उन्हें अपना घर-गांव छोड़ने पर मजबूर कर दिया। मट्टन के ऐतिहासिक मंदिर में वर्षों से सेवा कर रहे वयोवृद्ध सुरेंद्र खेर ने बताया कि कश्मीरी पंडित अब लौट रहे हैं। मट्टन में कश्मीरी पंडितों के 20 परिवार हो गए हैं। करीब 30 वर्ष पहले पलायन कर गए लोग फिर घाटी में मकान बना रहे हैं। उनका कहना है कि कश्मीर बदल रहा है। सभी अमन चाहते हैं।
 
कोरोना के चलते भले ही लोग घरों से कम निकल रहे, लेकिन कश्मीर की दिलकश वादियां पर्यटकों को खींचने लगी हैं। बदले हालातों का पर्यटन पर असर दिखने लगा है। पर्यटन कारोबारियों का कहना है कि इस साल शुरू में काफी सैलानियों ने घाटी का रुख किया। पहलगाम में पर्यटन से जुड़े फयाज और जावेद अहमद का कहना है कि जनवरी- फरवरी में बड़ी तादाद में पहुंचे पर्यटकों ने उम्मीद जगाई है। बेशक, इसके बाद कोरोना की दूसरी लहर ने सब कुछ चौपट कर दिया लेकिन आने वाले समय में फिर कश्मीर पर्यटकों की पहली पसंद होगा। उधर, श्रीनगर में डल झील किनारे भी सुबह-शाम रौनक दिखने लगी है। हालांकि, पर्यटक कम हैं, लेकिन लोग बेफिक्र होकर परिवार के साथ टहल रहे हैं ।

वाही दूसरी और नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम के छे महीने पूरे होने पर राजौरी और पुंछ जिले में सीमा पर रहने वाले लोग ऐसे ही शांति बने रहने की भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं, राजौरी जिले में 120 किलोमीटर और पुंछ में 90 किलोमीटर तक फैली नियंत्रण रेखा से लगे गांवों में रहने वाले लोग सीमा पर गोलाबारी में जान-माल की हानि के कारण भय और पीड़ा से भरा जीवन व्यतीत करते थे। राजौरी में नियंत्रण रेखा के सटे 50 से अधिक गांव और पुंछ जिले में लगभग 30 गांव हैं। राजौरी के चार गांव घनी आबादी वाले हैं, जो कांटेदार तार के आगे स्थित हैं, जबकि आठ गांव पुंछ जिले में कंटीले तार से आगे स्थित हैं। राजौरी के नोशहरा सेक्टर के डिंग के सरपंच रमेश चौधरी ने कहा कि हमारे गाव में आए दिन गोला बारी होती थी कठुआ से ले कर पूँछ तक गोला बारी होती थी पाकिस्थान द्वारा संघर्ष विराम किया जाता था अब दोनों देशो ने एक साथ जो फेसला लिया था उस से लोगो में आज ख़ुशी का महोल है ।

क्यों की संघर्ष विराम को बंद हुए छे महीने हुए है संघर्ष विराम उल्लंघन में कई लोगों की मौत और कई लोगों के घायल होने के साथ-साथ दर्जन से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा है। गोलाबारी के डर से हम फसल की बुआई व कटाई भी ठीक से नहीं कर पा रहे थे अपने खेतो में नहीं जा पाते थे कही आ जा नहीं सकते थे उन्होंने कहा की आज में दोनों देशो को मुबारख बात देते हुए जो आज छे महीने हो गए और गोला बारी नहीं हुई उन्होंने कहा की सीमा पर रहने वाले लोगो में ख़ुशी का महोल है क्यों की गोला बारी में दोनों देशो में जब गोला बारी होती थी तो गरीब ही मारा जाता था दोनों तरफ उन्होंने कहा की आज हमारे बच्चे पड़ाई कर रहे है किसान फसल काट रहा है बिना किसी डर के उन्होंने कहा की में दोनों देश की जनता और सरकार को मुबारख देता हु उन्होंने आगे कहा कि सौ दिन एक सपने के सच होने की तरह हैं, जहां एलओसी पर एक भी गोली नहीं चलाई गई है और एक अप्रत्याशित शांति बनी हुई है ।

केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजन के बाद अब ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं कि केंद्र की मोदी सरकार भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने को लेकर तैयारी शुरू करने जा रही है. जम्मू कश्मीर में परिसीमन भी किया जा रहा है ताकि सभी को बराबर का हक़ मिले कश्मीर को अपना और जम्मू को अपना हक़ मिले,. जम्मू कश्मीर में आने वाले समय में काफी बदलाव होगा केंद्र कश्मीर में युवाओ को रोज़गार देने का प्रयास कर रहा है कश्मीर हो या फिर जम्मू बदलाव हो रहा है , कश्मीर में जहा एक समय में जाने से लोग डरते थे अब वाही लोग कश्मीर का रुख कर रहे है अब हर कोई कश्मीर में जाना चाहता है ।

राजौरी के नोशहरा इलाके के भवानी गाव के सरपंच सुनील चोधरी ने भारतीय और पाकिस्तानी सेनाओं के बीच इस संघर्ष विराम समझौते को प्रभावी बताते हुए कहा कि दोनों पक्षों की सेनाओं के बीच शांति प्रक्रिया को इसी तरह से कायम रखने के लिए कदम उठाने चाहिए। हम गांव में रहते हैं और एलओसी पर एक भी गोली ग्रामीणों द्वारा स्पष्ट रूप से सुनी जाती है। कई बार लगातार भारी गोलाबारी रात की नींद हराम कर देती थी और हम लोग दहशत में रहते थे उन्होंने कहा की हम ने कई बार आवाज़ उठाई थी की इस संघर्ष विराम उल्लंघन को बंद किया जाए उन्होंने कहा की हमारे बच्चे आज पड़ाई कर रहे है उन्होंने कहा की इन सो दिनों में हमारे सीमा के लोगो ने ख़ुशी से गुज़ारे वाही दूसरी और नोशहरा के रहने वाले रोहित चोधरी ने संघर्ष विराम उल्लंघन को बाद हुए और एक सो दिन पुरे होने पर भारत और पाकिस्थान देश को बधाई दी उन्होंने कहा की जब भी गोला बारी होती थी तो दोनों देश के हालत खराब होते थे ।

उन्होंने कहा की सो दिन से दोनों और शांति बनी हुई है और सीमा पर रहने वाले लोग अमन और शांति से आज जी रहे है में दोनों और की सरकारों से मांग करता हु की इसी तहरा हमशे के लिए शांति बनी रहे ताकि सीमा पर रहने वाले लोग अमन और चेन की जिंदगी गुज़ार सके , 26 फरवरी के बाद से एलओसी पर एक भी गोली नहीं चलाई गई है जो दर्शाता है कि संघर्ष विराम समझौता पूरी तरह से प्रभावी है

India

अब देश के हर नागरिक की होगी अपनी हेल्थ आईडी : PM मोदी

Published

on

नई दिल्ली, 27 सितंबर (live24india) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत की। इस योजना में देश के हर नागरिक का हेल्थ कार्ड बनेगा। एनडीएचएम के अंतर्गत हर भारतीय को एक यूनिक डिजिटल हेल्‍थ आईडी मिलेगी और इससे देश में एक डिजिटल हेल्थ सिस्टम तैयार किया जा सकेगा। पीएम मोदी ने पिछले साल 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य अभियान की पायलट परियोजना की घोषणा की थी। वर्तमान में इस योजना को छह केंद्र शासित प्रदेशों में प्रारंभिक चरण में लागू किया गया है। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि बीते सात वर्षों में, देश की स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का जो अभियान चल रहा है, वो आज से एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है।

आज एक ऐसे मिशन की शुरुआत हो रही है, जिसमें भारत की स्वास्थ्य सुविधाओं में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने की ताकत है। पीएम नरेंद्र मोदी डिजिटल इंडिया अभियान बारे में बताते हुए कहा कि इसने देश के सामान्य नागरिक की ताकत बढ़ा दी है। आज हमारे देश के पास 130 करोड़ आधार नंबर, 118 करोड़ मोबाइल यूजर, 80 करोड़ इंटरनेट यूजर, 43 करोड़ जनधन बैंक खाते हैं। ऐसा दुनिया में कहीं नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि आरोग्य सेतु ऐप से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिली, इसके साथ ही भारत सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन दे रहा है। अबतक 90 करोड़ वैक्सीन लग पाई हैं और इसमें को-विन का बहुत बड़ा रोल है।

यूनिक हेल्थ कार्ड से क्या होगा फायदा

अगर आपका यूनिक हेल्थ कार्ड बन गया तो यह आपके और डॉक्टर, दोनों के लिए फायदेमंद होगा। इससे मरीजों को तो डॉक्टर से दिखाने के लिए मेडिकल फाइल ले जाने से छुटकारा मिलेगा ही, साथ ही डॉक्टर भी मरीज का यूनिक हेल्थ आईडी देखकर उसकी बीमारियों का पूरा डेटा निकाल लेंगे और तब उसके आधार पर ही आगे का इलाज शुरू हो सकेगा। इस यूनिक हेल्थ कार्ड के जरिये पता चल सकेगा कि आयुष्मान भारत के तहत मरीज को इलाज की सुविधाओं का लाभ मिलता है या नहीं।

इस हेल्थ कार्ड से ये भी पता चल सकेगा कि मरीज को स्वास्थ्य से संबंधित किन-किन सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। सार्वजनिक अस्पताल, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर और नेशनल हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर रजिस्ट्री से जुड़े हेल्थकेयर प्रोवाइडर, किसी व्यक्ति का हेल्थ कार्ड बना सकते हैं। आप खुद से भी हेल्थ आईडी बना सकते हैं। इसके लिए आपको https://healthid.ndhm.gov.in/register पर खुद के हेल्थ रिकॉर्ड्स को रजिस्टर कराना होगा।

  • -जिस व्यक्ति की आईडी बनेगी उससे मोबाइल नंबर और आधार नंबर लिया जाएगा।
  • -आधार और मोबाइल नंबर की मदद से यूनिक हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा।
  • -इसके लिए सरकार एक हेल्थ अथॉरिटी बनाएगी जो व्यक्ति का एक-एक डेटा जुटाएगी।
  • -जिस व्यक्ति की हेल्थ आईडी बननी है, उसके हेल्थ रिकॉर्ड जुटाने के लिए हेल्थ अथॉरिटी की तरफ से इजाजत दी जाएगी। इसी आधार पर आगे का काम बढ़ाया जाएगा।

Continue Reading

India

सिंघु बार्डर पर जालंधर के किसान की मौत, दिल का दौरा पड़ने की आशंका

Published

on

सिंघु बार्डर, 27 सितंबर (live24india) : कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा आज भारत बंद का आह्वान किया गया है। इस आह्वान के मद्देनजर पंजाब के अधिकतर शहरों में परिवहन सेवाएं, बाजार पूरी तरह से बंद हैं। कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग को लेकर जारी आंदोलन में शामिल पंजाब के एक और किसान की मौत हो गई है। शुरुआती जांच में मौत का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है।

हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही मौत के सही कारणों का पता लग सकेगा। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया है। मृतक की पहचान पंजाब के जिला जालंधर के गांव खेला के रहने वाले बघेल राम (55) के तौर पर हुई है, जो कुंडली बॉर्डर पर जारी आंदोलन में शामिल होने आए थे। भारत बंद की वजह से कई नेशनल और स्टेट हाईवे ब्लॉक कर दिए गए हैं। कई रूट डायवर्ट करने पड़े हैं।

ट्रेनों की आवाजाही भी प्रभावित है। दिल्ली से जाने वाली कई ट्रेनें रद्द की गई हैं। प्रदर्शनकारी किसानों की योजना सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक चक्का जाम रखने और विरोध प्रदर्शन करने की है। हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में इस बंद का ज्यादा असर दिखाई दे रहा है।

Continue Reading

India

भवानीपुर में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन दिलीप घोष पर हमला

Published

on

कोलकाता, 27 सितंबर (live24india) : पश्चिम बंगाल के भवानीपुर में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन हिंसक झड़प हुई है। भवानीपुर इलाके में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी में हुई खूनी झड़प में बीजेपी के कई कार्यकर्ता गंभीर रूप से जख्मी हो गए। टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप है। टीएमसी के विरोध की वजह से बीजेपी को सभा तक रद्द करनी पड़ी। बीजेपी के मुताबिक, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष को भी टीएमसी वालों ने निशाना बनाया। उनके साथ धक्का-मुक्की हुई। घोष के साथ सांसद अर्जुन सिंह भी थे।

टीएमसी कार्यकर्ताओं ने दोनों नेताओं का पीछा किया। इस दौरान वहां तनाव काफी बढ़ गया। भाजपा नेताओं की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने दोनों नेताओं को वहां से सुरक्षित निकाला। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाकर्मियों को हथियार निकालने पड़े। भवानीपुर सीट पर उप चुनाव हो रहा है और इस सीट पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उम्मीदवार हैं। ममता का मुकाबला भाजपा प्रत्यासी प्रियंका टिबरेवाल से है। इस सीट पर 30 सितंबर को मतदान होना है। चुनाव प्रचार के अंतिम दिन भाजपा ने अपने प्रचारकों की पूरी ताकत झोंक दी है।

ममता अपना पिछला विस चुनाव नंदीग्राम सीट हार गईं। उन्हें सुवेंदु अधिकारी ने हराया। भवानीपुर सीट से ममता पहले भी विधायक रह चुकी हैं। सांसद अर्जुन सिंह ने टाइम्स नाउ नवभारत से खास बातचीत में कहा कि टीएमसी के लोग झूठ बोल रहे हैं। ममता बनर्जी चाहती हैं कि लोग वोट देने के लिए अपने घरों से न निकलें।

वह जानती हैं कि उनके पैरो तले जमीन खिसक गई है। टीएमसी भय का माहौल बनाकर लोगों को डराना चाहती है। बता दें कि इस सीट पर 206,389 मतदाता हैं। इनमें एक बड़ी संख्या गैर-बंगाली मतदाताओं की है। इस सीट पर मुस्लिम एवं सिख मतदाता भी बड़ी संख्या में हैं।

Continue Reading

Trending Live

Advertisement

Latest Post

Big News

Advertisement

Sports

Sports2 weeks ago

Virat Kohli देंगे इस्तीफा! Rohit हो सकते हैं भारतीय टीम के नए कप्तान

नई दिल्ली 13 सितंबर (live24india) : भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सफेद बॉल क्रिकेट के लिए आने वाले समय में...

Cricket3 weeks ago

IND-ENG के बीच 5वां टेस्ट मैच रद्द, सीरीज में भारत 2-1 से आगे

मैनचेस्टर, 10 सितंबर (live24india): भारत और इंग्लैंड के बीच मैनचेस्टर में होने वाला 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का आखिरी...

Sports1 month ago

Tokyo Paralympics: भाविना ने रचा इतिहास, टेबल टेनिस में गोल्ड जीतने से एक कदम दूर

नई दिल्ली, 28 अगस्त (live24india): भारत की पैरा टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविना पटेल ने टोक्यो पैरालंपिक में इतिहास रच दिया।...

Hockey2 months ago

खेल मंत्री राणा सोढ़ी ने की घोषणा, पंजाब के खिलाड़ियों को मिलेगा 1 करोड़ रुपए का पुरस्कार

चंडीगढ़, 5 अगस्त (live24india) : पंजाब सरकार ने गुरुवार को घोषणा की कि वे टोक्यो ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक...

Hockey2 months ago

Hockey टीम ने रचा इतिहास, ग्रेट ब्रिटेन को हराकर ओलंपिक सेमीफाइनल में बनाई जगह

टोक्यो, 1 अगस्त (live24india): भारत ने ग्रेट ब्रिटेन को सेमीफाइनल में रविवार को 3-1 से पराजित कर 41 वर्षों के...

Advertisement

Entertainment

Bollywood22 hours ago

रश्मि रॉकेट के गीत ‘घनी कूल छोरी’ का टीज़र हुआ रिलीज़

मुंबई, 27 सितंबर (live24india) : तापसी पन्नू स्टारर ज़ी5 ओरिजिनल ‘रश्मि रॉकेट’ ने ट्रेलर लॉन्च के बाद ही दर्शकों के...

Bollywood22 hours ago

16 अक्टूबर को Amazon Prime Video पर होगा ‘सरदार उधम’ का वर्ल्डवाइड प्रीमियर

मुंबई, 27 सितंबर (live24india) : यह एक महान स्वतंत्रता सेनानी की बहुप्रतीक्षित अनकही कहानी का ऑफिशियल टीज़र है, सरदार उधम...

Bollywood23 hours ago

सुखमणि सदाना कंटेंट-ओरिएंटेड शो के साथ ओटीटी प्लेटफॉर्म पर राज करेंगी!

मुंबई, 27 सितंबर (live24india) :  अक्टूबर आते-आते सुखमणि सदाना दो अलग-अलग ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दो शो में नजर आएंगी। जहां उनकी...

Bollywood23 hours ago

सोनम ‘द बीओएफ शो विद इमरान अमेड’ के लॉन्च में मैक्वीन की ड्रेस में हुईं शामिल

मुंबई, 27 सितंबर (live24india) :  सोनम कपूर हमेशा अपने स्टाइल, फैशन के लिए सुर्खियों में रहती हैं। वर्तमान में, अभिनेत्री लंदन...

Bollywood23 hours ago

सोनी टीवी के इंडियाज गॉट टैलेंट को जज करेंगी शिल्पा शेट्टी

मुंबई, 27 सितंबर (live24india) :  टैलेंट बेस रियलिटी शो इंडियाज गॉट टैलेंट की वापसी के साथ, शिल्पा शेट्टी को शो के...

Trending